Mon. Mar 25th, 2019

छूट रहे हैं कैच, नहीं बन रहे रन, क्या पंत को मिलेगा वर्ल्ड कप का टिकट?

भारत के पास ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे और टी-20 सीरीज जीतकर वर्ल्ड कप से पहले अपनी तैयारियों को और भी ज्यादा मजबूत करने का सुनहरा मौका था. लेकिन, विराट कोहली और टीम मैनेजमेंट के लगातार एक्सपेरिमेंट ने टीम इंडिया की जीत की लय ही बिगाड़ कर रख दी. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हार ने टीम इंडिया के मिडिल ऑर्डर की पोल खोल कर रख दी जो दुनिया की बाकी टीमें भी जरूर देख रही होंगी. वनडे सीरीज में 2-0 की बढ़त लेने के बाद विराट ब्रिगेड का 2-3 से सीरीज हार जाना कई बड़े सवाल खड़े कर रहा है. इस हार की सबसे बड़ी वजह रही विराट कोहली और टीम मैनेजमेंट का लगातार अनचाहे एक्सपेरिमेंट करना. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज गंवाने के बाद विराट कोहली ने भले ही विश्व कप के लिए अपनी प्लेइंग इलेवन लगभग तय कर ली है. लेकिन, बल्लेबाजी में चौथे नंबर और दूसरे विकेटकीपर को लेकर को भम्र की स्थिति बरकरार है.

 

महेंद्र सिंह धोनी जैसे दिग्गज खिलाड़ी को आराम देने के बाद जिस ऋषभ पंत को मौका दिया गया वो न तो विकेट के बीच कैच पकड़ पा रहे हैं और न ही बल्लेबाज के क्रीज से बाहर जाने के बाद गेंद को ठीक से पकड़ कर स्टंप कर पा रहे हैं. बल्ले से उनके रिकॉर्ड तो बताने के लायक भी नहीं है. ऋषभ पंत ने 5 वनडे की 4 पारियों में 23.25 की बेहद घटिया औसत से 93 रन बनाए हैं. इस दौरान उनका बेस्ट स्कोर 36 रन रहा. विकेटकीपिंग में तो ऋषभ पंत का और भी बुरा हाल है. 5 वनडे मैचों में पंत के सिर्फ पांच ही कैच हैं और स्टंपिंग एक भी नहीं.

 

ऋषभ पंत को एमएस धोनी के उत्तराधिकारी के रूप में देखा जा रहा है और वर्ल्ड कप में उन्हें चुने जाने के बहुत से तर्क दिए जा रहे हैं. लेकिन, इतना साफ है कि वर्ल्ड कप में ऋषभ पंत की विकेटकीपिंग की जरूरत तो नहीं पड़ेगी, क्योंकि धोनी विकेटकीपिंग का जिम्मा संभालेंगे. रही बात बल्लेबाजी की तो बैटिंग में ऋषभ पंत से और भी बेहतर विकल्प भारतीय टीम को मिल सकते हैं.

 

ऋषभ पंत की जगह भारतीय टीम के पास बल्लेबाजी में अजिंक्य रहाणे, पृथ्वी शॉ, दिनेश कार्तिक, श्रेयस अय्यर और ईशान किशन के विकल्प मौजूद हैं. ऋषभ पंत के मौजूदा प्रदर्शन को देखते हुए वह वर्ल्ड कप के लिए टीम में जगह बनाते हुए नजर नहीं आ रहे. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत की वनडे सीरीज में हार का एक बड़ा कारण विकेट के पीछे ऋषभ पंत की नाकामी है.महेंद्र सिंह धोनी को आराम दिए जाने के बाद मिले स्वर्णिम मौके को पंत भुना नहीं पाए. धोनी की गैरमौजूदगी मैदान पर खली. विकेट के पीछे धोनी जैसी मुस्तैदी पंत में नहीं दिखी.

Web Counter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...