Thu. Sep 19th, 2019

जानें इस साल यूपीएसी प्रीलिम्स परीक्षा में पूछे गए सवालों के बारे में

  •   
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  

नई दिल्ली। हर साल आयोजित होने वाली यूपीएसी की परीक्षा में कई लाख छात्र शामिल होते है। कई छात्र कई सालों के मेहनत के बाद इस परीक्षा में अपना हूनर दिखाते हुए अच्छे अंक के साथ उतीर्ण करते है। इस साल यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) की प्रीलिम्स परीक्षा का आयोजन 2 जून को किया गया। जिसमें कई लाख परीक्षार्थियों ने हिस्सा लिया। आइए जानते हैं कि कैसी रही परीक्षा और कैसे रहे इस इस परीक्षा में पूछे गए प्रश्न।

आपको बता दें, ये परीक्षा दो शिफ्ट में आयोजित की जाती है। पहली शिफ्ट सुबह 9:30 बजे से और दूसरी शिफ्ट 2:30 बजे से थी। UPSC के उम्मीदवारों को पेपर- II में 66 अंकों की कट-ऑफ को क्लियर करना होगा, जिसके बाद उनके पेपर- I के अंकों के आधार पर उन्हें मेन परीक्षा के लिए चुना जाएगा। यूपीएससी के जनरल स्टडीज पेपर 2 को CSAT के रूप में भी जाना जाता है। इसमें वर्बल (अंग्रेजी) सेक्शन के पैटर्न में कुछ बदलाव थे। वहीं मात्रा और तर्क (रीजनिंग) वर्गों ने लगभग पिछले साल के पेपर पैटर्न को ही फॉलो किया। दिलचस्प बात यह है कि इस साल कोई डेटा इंटरप्रिटेशन प्रश्न ( Data Interpretation) नहीं था। लेकिन कुछ सवाल ऐसे थे जिनके लिए दृश्य तर्क (visual reasoning) की आवश्यकता थी। हालांकि, बताया जा रहा है परीक्षा पहले की अपेक्षा थोड़ी मुश्किल थी।

इस साल जीएस पेपर -1 में अधिकांश प्रश्न करेंट अफेयर्स (50 से अधिक), भूगोल और पर्यावरण से थे। वहीं ट्रेडिशनल टॉपिक्स के आए सवाल आसान नहीं थे, जबकि इतिहास ने बहुत सारे ऐसे प्रश्न पूछे गए थे, जो काफी कठिन थे। इकोनॉमिक्स से मनी मल्टीप्लायर और गरीबी रेखा (Poverty Line) के कुछ प्रश्न पूछे गए थे। जिसमें बहुत ज्यादा दिमाग लगाने की जरूरत उम्मीदवारों को पड़ी। आपको बता दें, इस साल से कुछ नए प्रकार के प्रश्न प्रस्तुत किए गए हैं।

उदाहरण के लिए, ‘सब इंडेक्स ऑफ ईज ऑफ डूइंग बिजनेस इंडेक्स’ सेक्शन से पूछे गए प्रश्न थे। ये प्रश्न कठिन थे क्योंकि विकल्प एक दूसरे के करीब थे जिससे अनुमान लगाना काफी कठिन रहा। इस साल पर्यावरण-आधारित प्रश्न को भी तव्वजों दी गई थी। मोटे तौर पर कठिनाई का स्तर बढ़ा है, जिसका असर कट-ऑफ पर पड़ सकता है।

 

किस सेक्शन से कितने नंबर के प्रश्न पूछे गए
करंट अफेयर- 55
इतिहास- 12
जियोग्राफी- 7
इंडियन पॉलिटिक्स- 7
इंडियन इकोनॉमी- 9
साइंस एंड टेक- 5
एनवायरनमेंट- 7

जो उम्मीदवार प्रीलिम्स परीक्षा पास कर लेते हैं उन्हें UPSC मेन परीक्षा देने का मौका मिलेगा। यह परीक्षा लिखित होती है जिसमें बड़े प्रश्नों को हल करना होता है। मेन परीक्षा का आयोजन 20 सितंबर 2019 को किया जाएगा। आपको बता दें, यूपीएससी ‘सिविल सर्विस परीक्षा 2019’ की परीक्षा का आयोजन तीन चरणों में किया जाता है जिसमें प्रारंभिक परीक्षा (प्रीलिमनरी), मुख्य परीक्षा(मेन) और इंटरव्यू होती है जिसके बाद उम्मीदवारों का चयन होता है। वहीं 275 नंबर के इंटरव्यू को क्लियर करने के बाद आप सिविल सर्विस ऑफिसर के पदों पर नियुक्त किए जाएंगे और देश को अपनी सेवा का मौका देंगे।

Visitor Hit Counter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...