Sun. Apr 21st, 2019

वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया का ऐलान, कार्तिक-विजय शंकर-जडेजा को मौका

12वें आईसीसी वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम का ऐलान कर दिया गया है. मुंबई में सोमवार को ‘क्रिकेट के महासमर’ के लिए 15 सदस्यीय भारतीय दल चुना गया. अखिल भारतीय सीनियर चयन समिति ने टीम की घोषणा की. टीम में ऋषभ पंत को जगह नहीं दी गई है. दिनेश कार्तिक को मौका दिया गया है. बीसीसीआई की चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद ने कहा कि बड़े मैचों में विकेटकीपिंग के अनुभव के कारण कार्तिक को चुना गया. विश्व कप-2019 इंग्लैंड और वेल्स में 30 मई से 14 जुलाई तक खेला जाएगा. बीसीसीआई ने अपने ट्विटर हैंडल पर उन खिलाड़ियों के नाम जारी किए, जिन्हें वर्ल्ड कप का टिकट मिला है.

 

भारत की 15 सदस्यीय टीम इस प्रकार है-
विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा (उप कप्तान), शिखर धवन, केएल राहुल, विजय शंकर, एमएस धोनी (विकेटकीपर), केदार जाधव, दिनेश कार्तिक, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, हार्दिक पंड्या, मो. शमी, रवींद्र जडेजा
विश्व कप टीम की घोषणा करने की आखिरी तारीख 23 अप्रैल है, लेकिन बीसीसीआई ने आठ दिन पहले ही टीम का ऐलान कर दिया.

 

दिनेश कार्तिक को युवा ऋषभ पंत पर तरजीह- युवा विजय शंकर, केएल राहुल और रवींद्र जडेजा भारत की 15 सदस्यीय टीम में जगह बनाने में कामयाब रहे हैं. वनडे क्रिकेट में धोनी के वारिस माने जा रहे पंत का नहीं चुना जाना हैरानी का सबब रहा. 21 साल के पंत आईपीएल-12 में अब तक (रविवार तक) 245 रन बना चुके हैं, जबकि कार्तिक ने 111 रन बनाए हैं. 33 साल के कार्तिक ने अब तक 91 वनडे इंटरनेशनल मुकाबले खेले हैं, जबकि पंत ने 5 ही वनडे में टीम इंडिया का प्रतिनिधित्व किया है.

 

क्या कहा एमएसके प्रसाद ने..?- सीनियर चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद ने पत्रकारों से कहा,‘दिनेश कार्तिक की बेहतर विकेटकीपिंग के कारण ऋषभ पंत टीम में जगह नहीं बना सके. विकेटकीपिंग भी मायने रखती है. यही कारण है कि हमने कार्तिक को चुना वरना पंत भी टीम में होते .’ गौरतलब है कि कार्तिक को एक अनुभवी बल्लेबाज माना जाता है और जो विश्व कप जैसे बड़े टूर्नामेंट में शांत रहने में सक्षम हैं.

विजय शंकर के चयन को लेकर प्रसाद ने कहा, ‘चैम्पियंस ट्रॉफी के बाद हमने मध्य क्रम में कई खिलाड़ियों को मौके दिए. दिनेश कार्तिक… मनीष पांडे …अंबति रायडू को भी. लेकिन विजय शंकर के साथ यह है कि वह बल्लेबाजी के साथ गेंदबाजी भी कर सकते हैं. अगर इंग्लैंड की परिस्थतियां पक्ष में रहती हैं, तो वह अहम किरदार निभा सकते हैं. वह अच्छे गेंदबाज हैं.’

 

निदहास ट्रॉफी का कारनामा काम आया- 18 मार्च, 2018: दिनेश कार्तिक की करिश्माई बल्लेबाजी ने क्रिकेट की दुनिया में धूम मचा दी थी. कोलंबो के आर. प्रेमदासा स्टेडियम में कार्तिक के बल्ले से 8 गेंदों में 29* (6, 4, 6, 0, 2, 4, 1, 6) रनों की बारिश ने बांग्लादेश की जीत की उम्मीदों पर पानी फेर दिया था. फाइनल में आखिरी गेंद पर छक्का जड़कर अनुभवी कार्तिक ने टीम इंडिया को निदहास ट्रॉफी दिलाई और भारत ने वह रोमांचक फाइनल 4 विकेट से जीता था.

 

वनडे इंटरनेशनल में दिनेश कार्तिक
– वनडे डेब्यू सितंबर 2004 में, धोनी से तीन महीने पहले
– धोनी के बैक अप के तौर पर 2007 वर्ल्ड कप स्क्वॉड में रहे, लेकिन खेलने का मौका नहीं मिला
– 2011 और 2015 वर्ल्ड कप में नहीं चुने जा सके
– आखिरकार वर्ल्ड कप 2019 के लिए चुने गए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...