10th April 2020

नवरात्र में कोरोना से बचें, कन्याभोज और भंडारे को कहें न, बच्चों को न भेजें बाहर

  •   
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  

कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए पूरा देश मंगलवार रात 12 बजे से 21 दिनों के लिए लॉकडाउन हो गया है. इसी बीच चैत्र नवरात्र भी शुरू हो गए हैं. नवरात्र 25 मार्च से लेकर 2 अप्रैल तक रहने वाले हैं. आमतौर पर इस समय जगह-जगह पर भंडारे और कन्या पूजन का आयोजन किया जाता है. लेकिन इस प्रकार के धार्मिक कार्यक्रम कन्याओं और आम लोगों के लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकते हैं.

लॉकडाउन के दौरान क्या करें?- नवरात्र में बच्चियों को ना ही कन्या पूजन के लिए आस-पड़ोस में भेजें और ना ही नजदीक में हो रहे भंडारों का प्रसाद लेने भेजें. लोगों का प्रत्यक्ष रूप से संगठित रहना कोरोना वायरस का खतरा बढ़ा सकता है. आपको घर में या घर से बाहर कहीं भी भीड़ में शामिल होने से बचें. नवरात्र में लोग भजन-कीर्तन के लिए भी इकट्ठे होते हैं. ऐसे कीर्तन या चौकियों का ना तो आयोजन करें और ना ही उनमें शामिल हों. बहुत से लोग इकट्ठे होकर माता के जयकारे लगाते हैं. स्थिति बेहद गंभीर होने की वजह से ऐसा कोई काम न करें जिससे आपकी या दूसरों की जान पर खतरा बन आए.

इसके अलावा देश के सभी बड़े मंदिर अगले 21 दिनों के लिए बंद रहेंगे. लेकिन, हो सकता है आपकी गली-नुक्कड़ के बाहर नियमों को ताक पर रखकर कोई मंदिर खोला जा रहा हो. अपनी और दूसरों की सुरक्षा के लिए ऐसे किसी भी मंदिर में पूजा-अर्चना के लिए प्रवेश न करें.

ऐसे कर सकते हैं कन्या पूजन- नवरात्र में दुर्गाष्टमी और नवमी के दिन कन्या पूजन किया जाता है. लेकिन कोरोना वायरस के चलते इस बार कन्या पूजन की प्रक्रिया में थोड़ा बदलाव करना उचित होगा. यदि आपके घर में एक भी कन्या है तो आप उसे पूरे नौ दिन नवमी की तरह ही भोजन करवाइया. इससे भी आपकी मनोकामनाएं पूर्ण होंगी और कोरोना वायरस का खतरा भी नहीं रहेगा.

hit counter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *