Sun. May 19th, 2019

अजीम प्रेमजी ने समाज सेवा के लिए दिया अबतक का सबसे बड़ा चंदा

  •   
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  

नई दिल्ली। जानेमाने उद्योगपति अजीम प्रेमजी ने भारत के इतिहास में अबतक सबसे बड़ा डोनेशन दिया है। उन्होंने अपनी कंपनी के 34 फीसदी यानि 7.5 बिलियन डॉलर समाज सेवा के काम में लगाने का ऐलान किया है। अजीम प्रेमजी विप्रो लिमिटेड के मालिक है और उनकी संपत्ति अरबो रुपए है। अजीम प्रेमजी ने कंपनी के जिन शेयर को समाज सेवा के काम में दान देने का ऐलान किया है उसके वह खुद मालिक हैं। उन्होंने यह संपत्ति अजीम प्रेमजी फाउंडेशन को देने का फैसला लिया है। बुधवार को एक बयान जारी करके इसकी घोषणा की गई है।

 

21 बिलियन डॉलर समाज सेवा के क्षेत्र में- अजीम प्रेमजी के इस ऐलान के बाद जो कुल संपत्ति समाज सेवा के लिए दान दी गई है वह 21 बिलियन डॉलर हो गई है, जिसमे विप्रो की 67 फीसदी ओनरशिप भी शामिल है। बता दें कि अजीम प्रेमजी की फाउंडेशन की सीधे तौर पर शिक्षा के क्षेत्र में और एनजीओ के लिए काम करती है। इस फाउंडेशन के तहत ही अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी की शुरुआत की गई थी, जहां प्रोफेशनल शिक्षा दी जाती है और शोध के विषय भी पढ़ाए जाते हैं। माना जा रहा है कि आने वाले समय में अजीम प्रेमजी की फाउंडेशन और विस्तार करेगी।

 

अजीम प्रेमजी की फाउंडेशन समाज सेवा के क्षेत्र में अग्रणी- अजीम प्रेमजी के फाउंडेशन के विस्तार के लिए लगातार अजीज प्रेमजी काम कर रहे हैं। इस टीम में कुल 1600 लोग काम कर रहे हैं, जिसे और भी बढ़ाने की दिशा में काम हो रहा है, माना जा रहा है कि दान देने के काम में तीन गुना बढ़ोतरी की जाएगी। बेंगलुरू स्थिति विश्वविद्यालय में 5000 छात्रों की क्षमता तक बढ़ाया जाएगा और 400 फैकल्टी मेंबर की संख्या में भी बढ़ोतरी की जाएगी। जानकारी के अनुसार प्रेमजी की फाउंडेशन उत्तर भारत में एक विश्वविद्यालय खोलने की योजना बना रही है।

 

बहुत कम दान देते हैं अमीर बिजनेसमैन- रिपोर्ट के अनुसार जो बड़े अमीर व्यापारी हैं और जिनकी आय 50 मिलियन डॉलर से अधिक है उन्होंने पिछले पांच साल में समाज सेवा के क्षेत्र में बहुत कम दान दिया है। लेकिन अजीज प्रेमजी ने इन सबसे आगे बढ़कर इतिहास में सबसे बड़ा दान दिया है। बता दें कि अजीम प्रेमजी भारत के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति हैं और दुनियाभर के अमीरों में उनका 51 वां स्थान है।

Visitor Hit Counter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...