Thu. Sep 19th, 2019

गर्मी में देश बना आग की भट्ठी, इन 5 शहरों में कंबल ओढ़कर सो रहे लोग

  •   
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  

उत्तर भारत समेत दक्षिण के कई राज्य भीषण गर्मी की चपेट में हैं. उत्तर प्रदेश, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के कई इलाकों में जानलेवा लू चल रही है. इसके अलावा कर्नाटक, तमिलनाडु और आंध्रप्रदेश जैसे राज्यों में भी गर्मी से हाहाकार मचा हुआ है. राजस्थान के चुरु में तो शनिवार को तापमान 50 के पार तक पहुंच गया था. जबकि हरियाणा के सिरसा में तापमान 50 तक पहुंचने वाला है.वहीं, दूसरी तरफ भारत में कई शहर ऐसे भी हैं जहां तापमान इतना कम है कि लोग कम्बल या रजाई ओढ़कर सोने पर मजबूर हैं. यहां लोग अभी भी सर्दियों के कपड़े पहन रहे हैं. ग गर्मी के प्रकोप से नहीं बल्कि तेज ठंड से परेशान हैं.

 

लेह (जम्मू कश्मीर)- जम्मू कश्मीर के लेह में तापमान कम होने की वजह से काफी ठंड है. यहां सुबह और रात के वक्त तापमान में काफी गिरावट आ जाती है. लेह का उच्च तापमान 7 डिग्री सेल्सियस होता है, जबकि निम्न तापमान माइनस एक डिग्री तक पहुंच जाता है.

 

द्रास (जम्मु कश्मीर)- जम्मू कश्मीर की एक और जगह द्रास का तापमान तो और भी कम है. यहां का उच्च तापमान 3 डिग्री रहता है, जबकि निम्न तापमान माइनस 4 डिग्री तक पहुंच रहा है. जाहिर सी बात है कि यहां लोग सर्दियों के कपड़े निकालने पर मजबूर हो रहे होंगे.

 

समडोंग (सिक्किम)- हिमालय की गोद में बसा भारत का छोटा-सा राज्य है सिक्किम, जिसे ‘पूर्व का स्विट्जरलैंड’ कहा जाता है. यहां उच्च तापमान तो करीब 17 डिग्री रहता है, लेकिन निम्न तापमान करीब 7 से 8 डिग्री सेल्सियस तक रहता है.

 

हेमकुंट (उत्तराखंड)- एक तरफ जहां पूरा उत्तर प्रदेश गर्मी की मार झेल रहा है. वहीं उसके पड़ोसी राज्य उत्तराखंड के कई इलाकों में काफी ठंड है. उत्तराखंड के हेमकुंट का मौजूदा अधिकतम तापमान 17 डिग्री है, जबकि न्यूनतम तापमान 6 से 8 डिग्री सेल्सियस है.

 

तवांग (अरुणाचल प्रदेश)- दक्षिण और उत्तर भारत के राज्यों में लोगों को गर्मी से राहत नहीं मिल रही है. वहीं पूर्वोत्तर भारत के कई राज्यों में ठंडी हवाएं चल रही हैं. अरुणाचल प्रदेश के तवांग में भी आलम कुछ ऐसा ही है. यहां लोग रात और सुबह के वक्त गर्म कपड़े पहनने की मजबूर हो गए हैं. तवांग में अधिकतम तापमान 10 डिग्री जबकि न्यूनतम तापमान 2 से 3 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है.

Visitor Hit Counter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...